दिल्ली में बिगड़ती कानून व्यवस्था पर उपराज्यपाल ने नहीं लिया ‘आप’ विधायकों का ज्ञापन

दिल्ली में बिगड़ती कानून व्यवस्था पर उपराज्यपाल ने नहीं लिया ‘आप’ विधायकों का ज्ञापन

दिल्ली में बिगड़ती कानून व्यवस्था पर उपराज्यपाल ने नहीं लिया ‘आप’ विधायकों का ज्ञापन

संगम विहार में लड़की पर जानलेवा हमले का विधायकों ने लिया कड़ा संज्ञान

नई दिल्ली, 1 सितम्बर (दिल्ली क्राउन): पिछले हफ्ते 25 अगस्त को दक्षिण-दिल्ली के संगम विहार इलाके में एक युवक द्वारा एक लड़की पर किये गए पिस्तौल से जानलेवा हमले का कड़ा संज्ञान लेते हुए आज (बृहस्पतिवार) को आम आदमी पार्टी (आप) के विधायक उपराज्यपाल विनय कुमार सक्सेना को एक ज्ञापन सौंपना चाहते थे, लेकिन उपराज्यपाल ने उनसे मिलने से मना कर दिया और पुलिस ने धारा 144 का हवाला देते हुए विधायकों को गिरफ्तार कर लिया।

ज्ञापन में दिल्ली में बिगड़ती कानून व्यवस्था को ले कर चिंता जताई गई थी, और मांग की गई थी कि राष्ट्रीय राजधानी में महिलाओं की सुरक्षा सुदृढ़ की जाए।

उपराज्यपाल निवास के बाहर हंगामे के बाद ‘आप’ विधायकों को पुलिस द्वारा बस में भर कर ले जाते हुए देखा गया।

हंगामे से पूर्व, पत्रकारों से बात करते हुए दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने कहा कि घायल लड़की का अच्छे से अच्छा इलाज किया जा रहा है। “लड़की अभी जिन्दा है। दोषियों को पकड़ लिया गया है। उनको कड़ी से कड़ी सजा दिलवाएंगे। मैं उपराज्यपाल और केंद्र सरकार से अपील करता हूँ कि महिलाओं को सुरक्षा देने के लिए कड़े कदम उठाये जाएँ। हमसे जो मदद चाहिए वो हम करेंगे।”

मुख्यमंत्री केजरीवाल ने दिल्ली में महिलाओं की असुरक्षा पर चिंता जताते हुए कहा – “हाल ही में एक रिपोर्ट में कहा गया कि देश में दिल्ली के अंदर महिलाएं सबसे ज्यादा असुरक्षित हैं। देश की राजधानी में ऐसा होना अच्छी बात नहीं है।”

बता दें कि दिल्ली पुलिस उपराज्यपाल के अधीन है, और दिल्ली सरकार का स्थानीय पुलिस पर कोई नियंत्रण नहीं है। उपराज्यपाल के जरिये दिल्ली पुलिस केंद्रीय गृह मंत्रालय को रिपोर्ट करती है। दो दिन पहले ही गृह मंत्री अमित शाह ने दिल्ली पुलिस मुख्यालय पर वरिष्ठतम अधिकारियों के साथ कानून व्यवस्था पर एक बैठक की थी।

जबसे केजरीवाल ने दिल्ली के मुख्यमंत्री की कमान संभाली है तब से उन्होंने कई बार दिल्ली पुलिस को दिल्ली सरकार के अधीन करने की मांग की है, परन्तु हर बार केंद्र सरकार ने मांग ठुकरा दी।

विधानसभा में विधायकों द्वारा दिल्ली पुलिस से जुड़े मामलों पर उठाये गए प्रश्नों के उत्तर जानने के लिए प्रश्नों को उपराज्यपाल के कार्यालय भेजा जाता है। हाल ही में दिल्ली विधानसभा के अध्यक्ष राम निवास गोयल को कहते हुए सुना गया कि – “दिल्ली पुलिस से जुड़े मामलों के प्रश्नों को उपराज्यपाल के कार्यालय भेजा जाता है, लेकिन वहां से कोई जवाब नहीं आता।”

Leave a Reply

Your email address will not be published.