दिल्ली कोर्ट ने शारजील इमाम के खिलाफ किए देशद्रोह के आरोप तय

शारजील इमाम ने नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ दिए थे भड़काऊ भाषण

नई दिल्ली, 24 जनवरी (दिल्ली क्राउन): दिल्ली की अदालत ने नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) के खिलाफ अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय और दिल्ली के जामिया इलाके में कथित रूप से भड़काऊ भाषण देने के लिए कार्यकर्ता शारजील इमाम के खिलाफ सोमवार को आरोप तय किए।

जिन कथित भड़काऊ भाषणों के लिए इमाम को गिरफ्तार किया गया था, वे 13 दिसंबर, 2019 को जामिया मिलिया इस्लामिया में और 16 जनवरी, 2020 को अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय में किए गए थे। वह 28 जनवरी, 2020 से न्यायिक हिरासत में हैं।

अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश अमिताभ रावत ने आरोप तय किए। आदेश की एक विस्तृत प्रती बाद में उपलब्ध कराए जाने की उम्मीद है।इमाम पर देशद्रोह, धर्म, जाति, जन्म स्थान के आधार पर विभिन्न समूहों के बीच दुश्मनी को बढ़ावा देने, राष्ट्रीय एकता को खण्डित करने का आरोप, और भारतीय दंड संहिता के तहत सार्वजनिक बदमाशी, और गैरकानूनी गतिविधियों में शामिल होने का आरोप लगाया गया है।

दिल्ली पुलिस ने मामले में इमाम के खिलाफ चार्जशीट दायर की थी, जिसमें आरोप लगाया गया था कि उन्होंने कथित तौर पर केंद्र सरकार के प्रति नफरत, अवमानना ​​​​और असंतोष को भड़काने वाले भाषण दिए और लोगों को उकसाया जिसके कारण दिसंबर 2019 में हिंसा हुई।

Leave a Reply

Your email address will not be published.