अमर जवान ज्योति की लौ को राष्ट्रीय युद्ध स्मारक की लौ में मिलाने का फैसला

विपक्ष ने केंद्र पर निशाना साधते हुए कहा कि कुछ लोग देशभक्ति को नहीं समझते

नई दिल्ली, 21 जनवरी (दिल्ली क्राउन): इंडिया गेट पर बने अमर जवान ज्योति की मशाल की लौ आज यानी 21 जनवरी से बुझा दी जाएगी। शुक्रवार को आयोजित कार्यक्रम में इस मशाल को राष्ट्रीय युद्ध स्मारक की लौ में मिला दिया जाएगा। भारतीय सेना के अधिकारी ने बताया कि समारोह की अध्यक्षता एयर मार्शल बलभद्र राधा कृष्ण करेंगे। उनके द्वारा ही लौ को मिलाया जाएगा।

बता दें कि इंडिया गेट स्मारक ब्रिटिश सरकार ने 1914-21 के बीच जान गंवाने वाले ब्रिटिश भारतीय सैनिकों की याद में बनाया था। बाद में अमर जवान ज्योति को 1970 में पाकिस्तान पर भारत की बड़ी जीत के बाद युद्ध स्मारक में शामिल किया गया था। वहीं इंडिया गेट परिसर में बने राष्ट्रीय युद्ध स्मारक का 2019 में उद्घाटन किया गया था। राष्ट्रीय युद्ध स्मारक में उन सभी भारतीय रक्षा कर्मियों के नाम हैं, जिन्होंने 1947-48 से विभिन्न अभियानों में अपनी जान गंवाई है। पाकिस्तान के साथ गलवान घाटी में युद्ध और चीनी सैनिकों के साथ संघर्ष। आतंकवाद विरोधी अभियानों में जान गंवाने वाले सैनिकों के नाम भी स्मारक की दीवारों पर शामिल हैं।अमर जवान ज्योति की शाश्वत लौ को “बुझाने” के फैसले पर विपक्ष ने केंद्र पर जोरदार प्रहार किया क्योंकि इसे शुक्रवार को राष्ट्रीय युद्ध स्मारक के साथ विलय किया जाना है।

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने इस कदम की निंदा करते हुए कहा, “कुछ लोग देशभक्ति को नहीं समझ सकते हैं”।

उन्होंने एक ट्वीट कर बताया कि “यह बड़े दुख की बात है कि हमारे वीर जवानों के लिए जो अमर ज्योति जलती थी वह आज बुझ जाएगी। कुछ लोग देशभक्ति और बलिदान को नहीं समझ सकते लेकिन कोई बात नहीं… हम अपने सैनिकों के लिए एक बार फिर अमर जवान ज्योति जलाएंगे!” कांग्रेस सांसद शशि थरूर ने भी ट्विटर का सहारा लिया और कहा, “इस सरकार में लोकतांत्रिक परंपरा और स्थापित परंपरा का कोई सम्मान नहीं है, चाहे वह संसद में हो या बाहर। अमर जवान ज्योति के पचास साल बाद हासिल की गई पवित्रता को हल्के से छीना जा रहा है… तो 2014 के बाद सब कुछ फिर से खोजा जाना चाहिए?

विपक्ष के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे और कांग्रेस नेता मनीष तिवारी ने भी भाजपा सरकार पर निशाना साधा। खड़गे ने ट्वीट कर कहा कि “आरएसएस सैद्धांतिक रूप से शहादत को आदर्श नहीं बल्कि एक घातक दोष मानता है। यहाँ, गोलवलकर के “बंच ऑफ़ थॉट्स” के अंश, जिन्हें अब उनकी वेबसाइट से हटा लिया गया है। यह बताता है कि मोदी सरकार आधी सदी के बाद आज अमर जवान ज्योति को क्यों बुझा रही है,

तिवारी ने कहा, “जो कुछ भी किया जा रहा है वह एक राष्ट्रीय त्रासदी है और इतिहास को फिर से लिखने का प्रयास है। अमर जवान ज्योति को युद्ध स्मारक मशाल में मिलाने का अर्थ है इतिहास मिटाना। भाजपा ने राष्ट्रीय युद्ध स्मारक बनाया है, इसका मतलब यह नहीं है कि वे अमर जवान ज्योति को बुझा सकते हैं।

उन्होंने आगे कहा कि “इंडिया गेट पर अंकित नाम केवल कुछ शहीदों के हैं जिन्होंने प्रथम विश्व युद्ध और एंग्लो अफगान युद्ध में अंग्रेजों के लिए लड़ाई लड़ी थी और इस प्रकार यह हमारे औपनिवेशिक अतीत का प्रतीक है। 1971 और उसके पहले और बाद के युद्धों सहित सभी युद्धों के सभी भारतीय शहीदों के नाम राष्ट्रीय युद्ध स्मारक में रखे गए हैं। इसलिए, शहीदों को श्रद्धांजलि देने वाली लौ का होना एक सच्ची श्रद्धांजलि है।”

Leave a Reply

Your email address will not be published.