मुझ पर झूठा केस बनाने के दबाव के कारण की CBI के अधिकारी ने आत्महत्या: सिसोदिया

मुझ पर झूठा केस बनाने के दबाव के कारण की CBI के अधिकारी ने आत्महत्या: सिसोदिया

मुझ पर झूठा केस बनाने के दबाव के कारण की CBI के अधिकारी ने आत्महत्या: सिसोदिया

नई दिल्ली, 5 सितम्बर (दिल्ली क्राउन): दिल्ली के उप-मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने आज पत्रकारों को बताया कि दो दिन पहले केन्द्रीय अन्वेषण ब्यूरो (CBI) के एक कानूनी-सलाहकार ने इस लिए आत्महत्या कर ली थी क्यूंकि उन पर मुझे फंसाने के लिए एक झूठा केस बनाने का “बहुत दबाव था”, और वो अधिकारी दबाव को सहन नहीं कर पाए।

हालांकि सिसोदिया ने ये खुलासा नहीं किया कि दबाव किसका था।

उप-मुख्यमंत्री सिसोदिया ने कहा – “मुझ पर आबकारी मामले में जो फ़र्ज़ी FIR कराई गयी है, उस केस में CBI के कानूनी सलाहकार जीतेन्द्र कुमार पर दबाव था कि मेरे खिलाफ एक झूठा केस बनाया जाए। जीतेन्द्र कुमार CBI की एंटी करप्शन ब्रांच में कानूनी सलाहकार के रूप में काम कर रहे थे। मेरा केस वही देख रहे थे। मेरे खिलाफ गलत तरीके से केस बना कर मुझे गिरफ्तार कराने की कानूनी मंज़ूरी दें, इस बात का उन पर दबाव था, लेकिन वो मंज़ूरी नहीं दे रहे थे। वो मानसिक दबाव में आ गए और उन्होंने आत्महत्या कर ली। ये बहुत दुखद घटना है।”

बता दें कि कुछ पिछले महीने सिसोदिया के घर पर CBI की छापेमारी हुई थी। उसके बाद उनके बैंक लाकर को भी CBI द्वारा खंगाला गया था। लेकिन दोनों जगहों से CBI के हाथ कुछ नहीं लगा था।

भाजपा की दिल्ली इकाई द्वारा लगाए गए आरोप कि सिसोदिया ने शराब के ठेकों में करोड़ों रुपयों की धांध्लेबाज़ी करी थी, दिल्ली के उप-राज्यपाल विनय कुमार सक्सेना ने जांच के आदेश दिए थे, जिसके बाद CBI की छापेमारी की गयी थी।

CBI की छापेमारी के चलते दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने आशंका व्यक्त की थी कि जल्द ही सिसोदिया एक झूठे मामले में गिरफ्तार हो सकते हैं, जैसे उनके स्वास्थय मंत्री सत्येंद्र जैन भी पिछले ढाई महीनों से पुलिस कि कैद में हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.